झारखंड के कुख्यात अपराधी अमरेन्द्र तिवारी की छपरा में गोली मारकर हत्या

Spread the love

छपरा। सारण जिले के थाना क्षेत्र के घुरापाली गाँव स्थित तिवारी टोला में अज्ञात बाईक सवार हथियार बंद अपराधियों ने झारखंड के कुख्यात अपराधी अमरेन्द्र तिवारी उर्फ रमेन्द्र बाबा की गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक चन्द्रकेतु तिवारी का पुत्र बताया जाता है। अपराधियों ने घटना को उस वक्त अंजाम दिया गया जब अमरेन्द्र तिवारी अपने दरवाजे पर बैठकर हेयर डाई करने के बाद दाढी बना रहा था। घटना के संबंध मे मिली जानकारी के अनुसार बाईक पर सवार दो अपराधी अमरेन्द्र को घर से बुलाकर थोड़ी दुर ले गए और गोली मार दी गोली अमरेन्द्र के माथे पर लगी है । घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी मोबाइल, गले से सोने का चैन व सोने की अँगूठी भी लेते गए।सुत्रों की माने तो अपराधी अमरेन्द्र का पिस्टल भी लेकर फरार हो गए। 

एक सप्ताह से कर रहे थे रेकी

स्थानीय लोगों के अनुसार अपराधी 25 से 30 वर्ष के थे जो एक सप्ताह से रोजाना सुबह अमरेन्द्र से मिलने आते थे और घण्टो बातचीत कर वापस लौट जाते थे। अमरेन्द्र से मिलते समय दोनों अपराधी उसके पैर छुकर प्रणाम भी किया करते थे।

झारखंड के कुख्यात अपराधी था अमरेंद्र

पुलिस सुत्रों के अनुसार अमरेन्द्र के खिलाफ झारखंड  के विभिन्न थानों में हत्या, लुट ,आर्मस एक्ट,अपहरण व रंगदारी के दर्जनों मामले लंबित थे। जिनमें वह बर्षों से फरार चल रहा था।

ये मामले दर्ज है

अमरेन्द्र के खिलाफ दर्ज मामलों में रामगढ थाने में कांड संख्या 225/13,बोकारो 104/09,राँची के ऑरमाँझी में 52/12,पतरातु 230/13,129/08,101/08,230/13 भुरकुंडा में 104/09 बोकारो सेक्टर -4 में 164/ 13 समेत कई मामले दर्ज हैं ।इन मामलों में अमरेन्द्र की पैतृक गाँव रसूलपुर थाना क्षेत्र के घुरापाली गाँव में कुर्की जब्ती भी पुलिस कर चुकी है।

अमरेन्द्र के भाई धर्मेंद्र की पूर्व हो चुकी है हत्या

अमरेन्द्र चार भाईयों में सबसे छोटा भाई था।पिता हटिया के बिरसा चौक स्थित किसी मंदिर के पुजारी हैं। जिस कारण पुरे परिवार का राँची में ही रहना होता था। अमरेन्द्र राँची में हीं प्रेम प्रसंग में विवाह रचाया था जिसके दो बेटियाँ व एक बेटा भी है। अमरेन्द्र की अपराधिक गतिविधियाँ झारखंड के कई इलाकों में था ।

गलतफहमी में हुई थी उसकी भाई की हत्या

अमरेन्द्र के भाई धर्मेंद्र तिवारी का चेहरा मिलता जूलता था।जिससे गलतफहमी के कारण वर्षो पूर्व अपराधियों ने उसकी हत्या राँची के हटिया में गोली मारकर कर दी थी।

एकमा विधानसभा से चुनाव लड़ने की तैयारी में था अमरेन्द्र 

झारखंड से फरार चल रहे अमरेन्द्र एकमा विधानसभा सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की भी तैयारी में था। जिसे लेकर अपना साम्राज्य यहीं स्थापित करने में लगा था । अमरेंद्र अपने घर पर रोजाना अपने चहेतों के साथ दरबार लगाया करता था।हाँलाकि सारण के किसी भी थाने में अमरेन्द्र के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नहीं है। जिस कारण वह विगत छ: महीनों से अपने पैतृक गाँव घुरापाली में हीं रह रहा था। तभी अपराधियों ने घटना को अंजाम दे दिया।

 
क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

अमरेन्द्र अपराधिक गतिविधि का था। जिसकी तलाश झारखंड पुलिस को थी। झारखंड के विभिन्न थानों में इसके खिलाफ दर्जनों मामले लंबित हैं।हाँलाकि यहाँ किसी भी प्रकार की उसके खिलाफ कोई शिकायत दर्ज नहीं है। 

रामसेवक राउत    थानाध्यक्ष , रसूलपुर

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!