मासूम बच्चे की भूल ने ले ली तीन लोगों की जान, चायपत्ति के बदले डाल दिया थाइमेट

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/forget-the-innocent-childs-life-put-three-peoples-lives-instead-of-capsule-thiamet/
Twitter

छपरा। मासूम बच्चे की भूल के कारण तीन लोगों की जान चली गयी । देखते ही देखते एक के बाद एक करके तीन लोगों की मौत हो गयी । मासूम अमित की भूल यह रही कि चायपत्ति जैसी दिखने वाली कीटनाशक दवा थाइमेट को चूल्हे पर बन रही चाय में डाल दिया । उसी चाय को छान कर उसकी दादी छठिया देवी अपने साथ पड़ोस की महिला देवकन्या देवी को पिला दिया । साथ ही अमित और उसके छोटे भाई अंकुश को भी पिलाई । अमित को छोड़ कर तीन की मौत हो गयी । अमित जीवन और मौत से जुझ रहा है । उसे पीएमसीएच पटना में भर्ती कराया गया है । यह घटना डेरनी थाना क्षेत्र के खिड़कियां गांव की है । शुक्रवार को चायपत्ती के बदले भूलवश बच्चे ने कीटनाशक दवा डाल दिया जिससे दो महिला के साथ- साथ ढाई साल की बच्चे की मौत हो गई । 

घटना को सुनते ही आस पड़ोस के सैकड़ो ग्रमीण जुट गये और सभी इस ह्रदयविदारक घटना से मर्माहत थे । चायपत्ती रखने की जगह थायमेट रखा गया था। चायपत्ती कहां रखी जाती थी । अमित चायपत्ती की जगह थायमेट कैसे लेकर गया । इस तरह के कई सवालों की चर्चा लोग आपस में कर रहे थे । परिजनों का कहना था कि खेत की फसल पर छिड़काव के लिए रखा गया थाइमेट काफी पुराना था । इस वजह से उसका गंध समाप्त हो गया था और गर्म पानी में खौलाने के कारण गंध पूरी तरह खत्म हो गया जिसके कारण कीटनाशक होने का पता नही चल सका और चाय जैसा रंग होने के महिलाओं ने पी लिया । उन्हें क्या पता था कि चाय के बदले वह अपना मौत पी रही है । इस घटना के बाद से दोनों परिवारों में मातम छा गया है । एक घर से दादी छठिया देवी व पोता अंकुश की अर्थी निकली तो, पड़ोस से देवकन्या देवी की अर्थी निकली। देवकन्या देवी व छठिया देवी में काफी मित्रता थी । अंकुश भी हरपल अपनी दादी छठिया देवी के साथ ही रहता था ।

घटना एक नजर में

  • सुबह 8 बजे चाय बना
  • 8:30  बजे स्थिति बिगड़ा
  • 9 बजे चारों बेहोशी की हालत में सी एच सी परसा पहुंचे
  • 11:30 बजे छठिया देवी की मौत हो गयी
  • 12 बजे इलाज के दौरान देवकन्या  की मौत हो गयी
  • 2 बजे डेरनी थानाध्यक्ष पुलिस बलों के साथ पहुंचे

क्या कहते हैं अधिकारी

घटना स्थल पर जाकर हमने इसकी जांच की । मृतकों के परिजनों से पोस्टमार्टम कराने के लिए कहा गया , लेकिन वे लोग पोस्टमार्टम कराने को तैयार नहीं हुए ।

पंकज कुमार शर्मा

एसडीपीओ, सोनपुर

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/forget-the-innocent-childs-life-put-three-peoples-lives-instead-of-capsule-thiamet/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!