जिस थानेदार को रौब दिखाता था ये IPS, आज उसी के सामने हाथों में हथकड़ी लगाए आंसू बहा रहा है

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/fake-ips-officer-arrested/
Twitter

दरभंगा.बिहार के दरभंगा जिले का रहने वाला एक युवक अपने मां-पिता का सपना आईपीएस बनकर पूरा नहीं कर पा रहा था। जिसके कारण वह फर्जी आईपीएस बन गया। फिर थानेदार को हड़काने लगा। आरोपी युवक को पुलिस ने गुरूवार को जेल भेज दिया।  बताया जा रहा है कि समाज में रौब दिखाने और अपने माता-पिता के हौसलों बढ़ाए रहने के चक्कर में पतोर ओपी ओपी क्षेत्र पतोर गांव निवासी शोभा कांत मिश्र के इकलौते पुत्र अविनाश कुमार मिश्र ने फर्जी आईपीएस बनने के चक्कर में पुलिस के हत्थे चढ़ गया। दो दिनों पूर्व तक जिस थानेदार ओपी अध्यक्ष को रौब दिखा रहा था। आज उसके ही सामने हाथों में हथकड़ी लगाए आंसू बहाते नजर आया। 
 पुलिस उसके न्यायिक हिरासत में गुरुवार की शाम जेल भेज दिया है। पुलिस ने उसके पास से एक विजिटिंग कार्ड, जिस पर एनआईए लिखा हुआ और नकली चिड़िया मारने वाला पिस्टल बरामद किया है। एसडीपीओ दिलनवाज अहमद ने बताया कि पटना से उसे बुधवार को गिरफ्तार किया गया और गुरुवार को पूछताछ के बाद जेल भेज दिया गया है।

सामाजिक स्तर पर अपनी पैठ बनाने में गया जेल
अविनाश मिश्र ने मां-बाप को खुश करने और समाज से जुर्म मिटाने के लिए फर्जी आईपीएस बना था।  समाज में असामाजिक तत्वों पर भी रौब जमाने और अधिकारियों पर सही ढंग से काम करवाने का दबाव देने के लिए अविनाश ने वर्दी पहनी और फर्जी आईपीएस बना। गोलीकांड की जांच में देरी होने नहीं दिया। उसने जांच करवा कर दो लोगों की गिरफ्तारी भी करवा दी। एक व्यक्ति की बाइक पकड़ कर उससे 3500 की वसूली करने वाले थानाध्यक्ष की क्लास भी अच्छी खासी लगा दी। उसने कहा कि फर्जी आईपीएस का भेष धारण किया,पर कहीं भी एक पैसे की ठगी नहीं की। अविनाश ने बताया कि मां-बाप के सपनों के दबाव और सामाजिक ताना से बचने के लिए वह फर्जी आईपीएस बना।

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/fake-ips-officer-arrested/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!