IMA के आह्वान पर चिकित्सकों ने किया हड़ताल,बंद रहा सदर अस्पताल का OPD

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/doctors-would-strike-called-by-ima-opd-to-stop-sadar-hospital/
Twitter

छपरा । आइएमए के आह्वान पर चिकित्सक मंगलवार को हड़ताल पर रहे । इसका असर सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों पर पड़ा । सदर अस्पताल के ओपीडी को चिकित्सकों ने बंद करा दिया । निजी अस्पतालों में मरीजों का इलाज नहीं हुआ । हालांकि सरकारी अस्पतालों के आपातकालीन सेवा बहाल रहा । इलाज के लिए आये मरीजों का सहारा आपातकालीन कक्ष बना । हालांकि हड़ताली चिकित्सकों ने आपातकालीन कक्ष में बैठ कर मरीजों का इलाज किया । लेकिन बिना निबंधन के ही मरीजों की जांच कर सादा पर्ची पर दवा लिख दिया । हड़ताल के कारण आपातकालीन कक्ष में मरीजों की काफी भीड़ बढ़ गयी । आपातकालीन कक्ष में वैसे मरीजों का ही निबंधन किया गया जो गंभीर रूप से घायल या बीमार थे । सामान्य रूप से बीमार मरीजों का इलाज हड़ताली चिकित्सकों ने किया । आपातकालीन सेवा को छोड़कर सभी अन्य सेवा बाधित कर दिया गया । चिकित्सकों ने बताया कि पांच सूत्री मांगों के समर्थन में एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल किया गया है और मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन को तेज किया जाएगा । आपातकालीन कक्ष में डा रविशंकर प्रसाद सिंह , डा मिथिलेन्द्र कुमार सिंह, डा हरिशचंद्र प्रसाद, डा एसएस प्रसाद समेत कई अन्य चिकित्सकों ने मानव हीत में मरीजों का इलाज किया और हड़ताल का समर्थन भी किया । आइएमए के नेता डा बी के श्रीवास्तव ने बताया कि हम एनएमसी का विरोध करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि यह एक पुल कोर्स है जिसके बाद आधुनिक दवा के अभ्यास के लिए आयुष को सक्षम करने से क्यूकीज को वैध बनाना होगा। यह केवल उन सीटों को भी बेचने के लिए है और यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक आपदा होगा ।उन्होंने कहा कि यह योग्य एमबीबीएस, डीआरएस को अभ्यास करने और उनकी नैदानिक ​​कौशल को कम करने से प्रतिबंधित कर देगा क्योंकि यह लाइसेंस एक्ट परीक्षा लागू कर लेगा।उन्होंने कहा कि इससे भ्रष्टाचार बढ़ेगा, क्योंकि चिकित्सा महाविद्यालयों के लिए अनुमति देने में कई दोष हैं।उन्होंने कहा कि शिक्षा को अपरिवर्तनीय बनाने की साजिश हो रही है क्योंकि निजी प्रबंधन 60 से 100 प्रतिशत सीटों के लिए फीस तय करने के लिए मिलेंगे।उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र के साथ समझौता करना है क्योंकि एनएमसी मुख्य रूप से नामांकित निकाय होगा। यह संघीय ढांचे के विरूद्ध है क्योंकि राज्यों ने प्रतिनिधित्व खो दिया है। एनएमसी के लिए नहीं सार्वजनिक स्वास्थ्य को बचाने और सस्ती, गुणवत्ता वाले मेडिकल शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सकों ने हड़ताल किया है ।

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/doctors-would-strike-called-by-ima-opd-to-stop-sadar-hospital/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!