जैव चिकित्सा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली का सभी अस्पतालों को करना होगा पालन : डीएम 

Spread the love
बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी लेना होगा अनिवार्य, सदर अस्पताल समेत सभी अस्पतालों में समिति का होगा गठन
 छपरा।  जैव चिकित्सा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली का अनुपालन सभी सरकारी तथा गैर सरकारी अस्पतालों को हर हाल में करना होगा तथा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना सभी के लिए अनिवार्य है। उक्त बातें जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में सोमवार को कहीं । उन्होंने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि सदर अस्पताल समेत सभी सरकारी अस्पतालों में जैव चिकित्सा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली का अनुपालन सुनिश्चित करें । इसके लिए कलर कोड के तहत ठोस अपशिष्ट का पृथक्करण भी हर हाल में करें । उन्होंने सदर अस्पताल तथा अनुमंडल अस्पताल के अलावा सभी प्रखंड स्तरीय अस्पतालों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली का अनुपालन करने के लिए एक समिति गठित करने का निर्देश दिया । उन्होंने कहा कि जैव चिकित्सा ठोस अपशिष्ट सामूहिक उपचार केंद्र पर कचरे का को उपचारित कर ससमय नियमित रूप से उठाव होना चाहिये। कचरे को मिश्रित नहीं करें  । उन्हें अलग-अलग नियमों के अनुसार उठाव करें और निष्पादन सुनिश्चित करें ।
बिना एनओसी लिए चलाए जा रहे अस्पतालों पर एक लाख का जुर्माना
डीएम ने कहा कि बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से बिना अनापत्ति प्रमाण पत्र  लिए बिना चलाए जा रहे चिकित्सा संस्थानों के खिलाफ एक लाख रुपये तक जुर्माना तथा 5 साल तक कारावास की सजा का प्रावधान है । सभी चिकित्सा संस्थानों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना अनिवार्य है। इसके अलावा जल प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम 1974 तथा वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम 1981 के तहत भी चिकित्सा संस्थानों को अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना अनिवार्य है।
खुले में मेडिकल कचरा फेंकने वालों पर कार्रवाई का आदेश
जिलाधिकारी ने खुले स्थानों पर चिकित्सा अपशिष्ट फेंकने वाले अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया । प्रतिबंधित पॉलीथिन तथा प्लास्टिक के व्यवसाय के खिलाफ भी अभियान चलाने का उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया। बैठक में सिविल सर्जन डॉ ललित मोहन प्रसाद, आईएमए के प्रतिनिधि डा बी के श्रीवास्तव, डीपीसी रमेश चंद्र कुमार, डीपीएम भानू शर्मा, नगर निगम के पदाधिकारी, पीएचइडी के पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!