छपरा में बायो मेडिकल कचरा निष्पादन की नहीं है व्यवस्था

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/bio-medical-dust/
Twitter

छपरा । शहर से ग्रामीण इलाकों में संचालित अस्पतालों का कचरा सड़कों पर फेंका जा रहा है और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों की अवहेलना की जा रही है । सदर अस्पताल तथा कुछ निजी नर्सिंग होम को छोड़ कर शेष सभी नर्सिंग होम एवं प्राइवेट चिकित्सालयों का कचरा सड़कों पर फेंकने के कारण संक्रमण फैलने की आशंका बनी हुई है और इसके प्रति स्वास्थ्य विभाग तथा प्रशासन उदासीन बना हुआ है । कचरा सड़कों पर फेंकने के मामले में नगर निगम प्रशासन को कार्रवाई करने का अधिकार है लेकिन प्रशासन की लापरवाही के कारण निजी नर्सिंग होम संचालकों की मनमानी बढती जा रही है । आलम यह है कि शहर के चौक चौराहे पर कूड़ा कचरा की ढेर पर नवजात शिशुओं का शव भी फेंक दिया जाता है ।

क्या है बायोमेडिकल कचरा

अस्पताल में निकलने वाले बायोमेडिकल कचरा में चार तरह का कचरा होता है जिसमें ठोस अपशिष्ठ को छोड़ कर शेष तीन तरह के कचरा का निष्पादन इंसीलेटर मशीन में किया जाता है । ठोस अपशिष्ठ का निष्पादन नगर निगम के द्वारा किया जाता है और शेष तीन तरह के कचरा को इंसीलेटर मशीन में जलाकर नष्ट किया जाता है जिसमें एनामेडिकल वेस्ट ( शरीर के कटे हुए अंगों), नुकीला कचरा तथा प्लास्टिक कचरा को उच्च तापमान पर इंसीलेटर मशीन में जलाया जाता है । सारण जिले में किसी भी अस्पताल में इंसीलेटर मशीन नहीं है लेकिन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस जिले के बायो मेडिकल कचरा का निष्पादन करने के लिए मेडिकेयर नामक कंपनी को अधिकृत किया है जिसका इंसीलेटर मशीन का प्लांट मुजफ्फरपुर में है । कंपनी अपने वाहन से बायो मेडिकल कचरा का का संग्रह कराती है और निष्पादन कराती है । सदर अस्पताल तथा कुछ निजी नर्सिंग होम के कचरा का निष्पादन मेडिकेयर कंपनी करती है लेकिन अधिकांश अस्पतालों के कचरा को सड़क पर फेंक दिया जाता है । दर असल इसके लिए कंपनी को राशि का भुगतान करना पड़ता है और निजी नर्सिंग होम संचालक राशि खर्च नहीं करते हैं । अस्पताल का जो ठोस अपशिष्ठ होता है, उसे नगर निगम के द्वारा संग्रह करने का प्रावधान है और नगर निगम की लचर सफाई व्यवस्था के कारण उसी में बायो मेडिकल कचरा भी फेंक दिया जाता है ।

क्या कहते हैं अधिकारी

सदर अस्पताल से जो बायो मेडिकल कचरा निकलता है, मेडिकेयर कंपनी के द्वारा संग्रह कर निष्पादित किया जाता है । ठोस अपशिष्ठ का निष्पादन नगर निगम के द्वारा किया जाता है । सदर अस्पताल में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों का पूरी तरह से पालन किया जा रहा है ।

डा शंभू नाथ सिंह
उपाधीक्षक
सदर अस्पताल
छपरा

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/bio-medical-dust/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!