RJD विधायक ने किया नहरों का रियलिटी चेक, 250 गांव के किसानों को नही मिल रहा पानी, अब होगा आंदोलन

Spread the love

छपरा। सारण जिले के मढौरा के राजद विधायक जीतेन्द्र कुमार राय ने नहरों का रियलिटी चेक किया। रियलिटी चेक में सामने आया की किसी भी नहर में पानी नहीं है। जिससे जिले में सुखाड़ की समस्या सामने आयी है। विधायक ने कहा कि जिले में उत्पन्न सुखाड़ की समस्या के खिलाफ सारण प्रमंडलीय मुख्यालय छपरा में किसान आंदोलन किसानों के साथ एक दिवसीय अनशन किया जायेगा।

26 को किसानों के साथ अनशन पर बैठेंगे विधायक

इस मामले को काफी गंभीरता से लिया गया है और इसके खिलाफ 26 सितम्बर को किसानों के साथ अनशन पर बैठेंगे। विधायक ने कहा कि इस वर्ष बारिश नहीं होने के कारण पूरे जिले के किसान सुखाड़ की मार झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिले में बिजली संकट बरकरार है लोगों को घरेलू उपयोग के लिए बिजली उपलब्ध कराने में नाकाम सरकार व प्रशासन बिजली से सिंचाई की बात वैसे समय में कर रही है जब खेतों में सिंचाई के लिए पानी की जरूरत है।

विधायक ने डीएम को लिखा था पत्र, अब तक कोई कार्रवाई नही

विधायक ने एक सप्ताह पहले नहरों में पानी छोड़ने के लिए डीएम को पत्र लिखा गया था और डीएम ने पांच दिनों के अंदर जिले के सभी नहरों में पानी छोड़ने को कहा था, लेकिन अभी तक किसी भी नहर में पानी नहीं पहुंचा और डीएम ने अभी तक कोई रिपोर्ट नही दिया है।

बन्द व बेकार पड़े है जिले अधिकांश नलकूप
विधायक ने कहा कि जिले के अधिकांश नलकूप बंद व बेकार पड़े हैं जिन्हें कागजों पर चालू कर अधिकारी फर्जी आकड़ा पेश कर रहे हैं तथा किसानों को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मढौरा विधान सभा क्षेत्र के राजगांवा के पास नहर पर ग्रामीणो के आवागमन के लिए पुल प्रस्तावित था, लेकिन प्रशासन ने पुल का निर्माण नहीं कराया है ।

पुल नहीं बनने के कारण ब्लॉक है रास्ता
नहर का पक्कीकरण करते समय पुल के लिए प्रस्तावित स्थल पर नहर का पक्कीकरण नहीं किया गया है, जिसे ग्रामीण रास्ता के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं और वहां पुल नहीं बनने के कारण नहर ब्लाक है ।

इन गाँव के किसानों को नही मिल रहा है पानी
विधायक ने कहा कि नरहरपुर, दामोदरपुर, नरहरपुर चमारी, रसूलपुर, सिसवां, देव बहुआरा, बहुआरा, राजगांवा, भुआलपुर, मुबारकपुर, इसरौली, बेडवलिया, कादीपुर, नगरा, जगदीशपुर, पहाड़पुर सहित सैकड़ों गांव के किसानों को नहर के पानी नही मिलता हैं। यही कारण हैं कि धान की खेती खत्म हो गई हैं और फसल पिला पड़ गया हैं।

किसानों ने कहा- विभाग की लापरवाही है
किसान उमेश सिंह ने कहा कि गंडक व नहर विभाग के साथ ही रेलवे प्रशासन की लापरवाही के कारण नहर पर पुल का निर्माण नही हुआ हैं। लगभग 40 से नहर पर पुल बनने का मामला चल रहा था लेकिन कुछ दिनों पूर्व कोर्ट से निबटारा भी हो चुका है। इसके बावजूद अभी तक पुल का निर्माण नही हुआ हैं। जिससे किसानों में आक्रोश व्याप्त है। किसानों ने आंदोलन की मुंड बना ली है। अब 26 को जिला मुख्यालय में प्रशासन के खिलाफ अनशन करने का ऐलान कर दिया है। विधायक द्वारा नहरों का भौतिक निरीक्षण से नहर विभाग के अधिकारियों में हड़कम्प मच गया हैं। निरीक्षण के दौरान विधायक के साथ जिला मुखिया संघ के जिलाध्यक्ष मिथिलेश कुमार राय, कोड़ेयां पंचायत के मुखिया ललित प्रसाद, संतोष गुप्ता, बाला राय, शुभनारायन राय, कृष्ना प्रसाद, सहित दर्जनों ग्रामीण व किसान मौजूद थे।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!