आंतरिक संसाधन की बैठक में आयुक्त ने दिया निर्देश, अभियान चलाकर राजस्व के निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करें

इस समाचार को शेयर करें

छपरा : सारण प्रमण्डलीय आयुक्त आर.एल. चोंग्थु के द्वारा आंतरिक संसाधन संबंधी बैठक में उपस्थित प्रमण्डल स्तरीय पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि सरकार के द्वारा राजस्व के निर्धारित लक्ष्य सभी विभाग अभियान चलाकर प्राप्त करें। आयुक्त ने कहा कि वित्तीय वर्ष में चार-पाँच माह ही शेष बचे हैं और पर्व-त्योहार भी समाप्त हो गया है, अब राजस्व उगाही पर ध्यान दिया जाय और निर्धारित लक्ष्य प्राप्त किया जाय।  राज्य कर अपर आयुक्त, सारण प्रमंडल अभी तक राजस्व संग्रहण अत्यंत न्यून रहने के कारण को स्पष्ट नहीं कर पाये। क्षेत्रीय परिवहन प्रधिकार सारण प्रमण्डल की जिला इकाई गोपालगंज के द्वारा प्रगति प्रतिवेदन उपलब्ध नहीं कराने को आयुक्त ने गभीरता से लिया और संबंधित पदाधिकारी के विरुद्ध स्पष्टीकरण करने का निदेश दिया। इस मामले में सारण और सिवान जिले की प्रगति संतोषजनक पायी गयी जहाँ लक्ष्य के क्रमशः 106 प्रतिशत और 109 प्रतिशत की उपलब्धि माह सितम्बर तक बतायी गयी। छपरा में 25 करोड 53 लाख और सिवान में 27 में करोड़ 30 लाख का राजस्व प्राप्त किया गया। सहायक निदेशक, खान एवं भूतत्व सारण अंचल से यह पृच्छा की गयी कि प्राप्ति निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप क्यों नहीं हुयी।

माप-तौल की जांच के टीम गठन का निर्देश
सहायक कृषि निदेशक-सह-उप नियंत्रक, माप-तौल, सारण प्रमण्डल से पिछले तीन में कितनी जाँच की गयी और राजस्व की कितनी उगाही हुयी संबंधी प्रतिवेदन की माँग की गयी और प्रमण्डल के तीनों जिलो के जिलाधिकारी को पत्र लिखने का निदेश दिया गया कि डीएम के स्तर से कमिटी गठित कर बाट-बटखरों की औचक जाँच करायी जाय। आयुक्त ने जानना चाहा कि प्रमण्डल में कितने जगह धर्म काॅटा है और उसकी कब-कब जाँच की गयी। इससे संबंधित प्रतिवेदन की माँग की गयी। डीएफओ, सारण के द्वारा बताया गया कि वन विभाग के राजस्व का मुख्य श्रोत निलामी है परन्तु अब वृक्ष कटायी पर रोक लग जाने से निलामी में कमी आयी है जिससे राजस्व प्राप्ति में भी कमी आयी है। वन विभाग के द्वारा अक्टूबर माह तक कुल 71.90 लाख का राजस्व प्राप्त किया गया है।  अधीक्षण अभियंता सारण नहर अंचल के द्वारा बताया गया कि पहले खेत की पटवन की जाती है उसके बाद उसका मापी कराया जाता है तब उसकी बिलिंग करायी जाती है जिसका दर 88 रूपया प्रति हेक्टेयर निर्धारित है। माह सितम्बर तक विभग के द्वारा लक्ष्य का 28 प्रतिशत राजस्व उगाही की गयी है।

आयुक्त के द्वारा लघु सिंचाई, निबंधन, मत्स्य, सहयोग समिति और भू-लगान की भी समीक्षा की गयी। प्रतिवेदित माह अक्टूबर तक भू-लगान मात्र 2.31 प्रतिशत की प्राप्ति पर आयुक्त के स्पष्टीकरण करते हुए प्रमण्डल के सभी जिलाधिकारी को इसकी समीक्षा कर इसपर अभियान चलवाले संबंधी पत्र लिखने का निदेश दिया गया।  निलाम पत्र वाद की समीक्षा करते हुए आयुक्त ने कहा कि उप पुलिस महानिरीक्षक सारण प्रमण्डल को इस हेतु पत्र लिखा जाय ताकि निलामपत्र वाद के लम्बित मामलों के निष्पादित में तेजी आये। आयुक्त के द्वारा निलाम पत्र वाद के लम्बित मामलों की सूची की माँग की गयी। बैठक में आयुक्त के सचिव  अजय कुमार सिंहा सहित संबंधित प्रमण्डल स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!