सारण में पेयजल संकट से निपटने के लिए DM का निर्देश, टैंकर से घर-घर पहुंचाये पानी

Spread the love

छपरा । भीषण गर्मी के कारण भू – जल स्तर मे आयी गिरावट से उत्पन्न पेयजल की समस्या को दूर करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था अपनायी जाय। उक्त बातें जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने समाहरणालय सभागार में जिला स्तरीय पदाधिकारियों एवं सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकरियों के साथ आयोजित विशेष समीक्षा बैठक में गुरूवार को कही । जिलाधिकारी ने निदेश दिया कि इसके लिए नगर निगम क्षेत्र सहित सभी नगर पंचायतो में प्यायू की व्यवस्था करायी जाय तथा ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के टैंकर अथवा नल लगा हुआ, सिन्टेक्स भेजा जाय। जिलाधिकारी ने बताया कि पी.एच.ई.डी. विभाग के द्वारा अनुमण्डलों में पानी के टैंकर की व्यवस्था करायी गयी है।

पानी की समस्याओं के निदान के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम
इसके लिए लोक स्वास्थ्य प्रमण्डल छपरा के कार्यालय में 06152 – 244791 पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गयी है जिसपर प्रत्येक कार्य दिवस को 10 बजे पूवार्ह्न से रात्री के 8 बजे तक सूचना दी जा सकती है। समीक्षा बैठक में उपस्थित सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि सात निश्चय की नल का जल योजना के तहत शेष बचे सभी वार्डों में इस माह के अंत तक वोरिंग कराकर वहाँ टावर बनाकर सिन्टेक्स लगाया जाय ताकि पेयजल की समस्या दूर हो सके।

ये भी पढ़ें: सारण व महाराजगंज लोकसभा के मतगणना के लिए बनाये जायेंगे 30-30 टेबल: डीएम

जिलाधिकारी ने कहा कि पाईप बिछाने का कार्य जून माह में करायी जाएगी, पहले सिन्टेक्स लगा दिया जाय, जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज पदाधिकारी को निदेश दिया कि प्रिति दिन सभी बी.डी.ओ. से प्रतिवेदन प्राप्त करें कि उनके द्वारा कितने वार्डों में वोरिंग कराया गया । इस संबंध में पी.एच.ई.डी को भी सहयोग करने का निदेश दिया गया । जिलाधिकारी ने कहा कि बी.डी.ओ. प्रखण्ड के अधिकारियों एवं कर्मियों को भी इस कार्य में लगायें । जिलाधिकारी ने कहा कि अगले दो माह में हर घर नल का जल योजना को प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण करायी जाय।

ये भी पढ़ें: छपरा के इस युवक ने कार को बना डाला हेलीकॉप्टर, बना चर्चा का विषय 

खराब पड़े चापाकलों को मरम्मत करने का निर्देश
जिलाधिकारी के द्वारा पी.एच.ई.डी. के पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि चापाकलों की मरम्मती के कार्य मे तेजी लाई जाय एवं विभाग से प्राप्त निदेश के आलोक मे नए चापाकल गड़वाया जाए। विभाग के कनीय अभियंता सभी जगह भ्रमणशील रहकर कार्य करायें और संबंधित बी.डी.ओ. के सम्पर्क में रहें।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!