DM ने 25 जून तक सभी नहरों में पानी छोड़ने का दिया निर्देश, बोले- नहर का बांध टूटा तो इंजीनियरों पर होगी कार्रवाई

Spread the love

छपरा। जिले में खरीफ फसल की बुआई को लेकर जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने कृषि टास्क फोर्स की बैठक की। जिसमें कृषि विभाग, सहकारिता विभाग, नहर प्रमंडल, विद्युत विभाग के संयुक्त कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान जिलाधिकारी ने नहर प्रमंडल के कार्यपालक अभियंताओं को निर्देश दिया कि औसत से कम बारिश होने की स्थिति में आगामी 25 जून तक सभी नहरों में पानी छोड़ दिया जाए। पानी नहर के अंतिम छोड़ तक हर हाल में पहुंचनी चाहिए। पानी की पहुंच को लेकर निगरानी भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बार नहर का बांध टूटा तो सभी इंजीनियरों को दोषी मानते हुए कठोर कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी ने अभी से ही क्षेत्र का भ्रमण कर सभी नहरों की स्थिति का जायजा लेने का निर्देश दिया। ताकि खरीफ फसल की सिंचाई में किसी तरह की बाधा उत्पन्न नहीं हो सके। वहीं धान की बुआई को लेकर समीक्षा किया। जिसमें उन्होंने बारिश कम होने की स्थिति में कम समय के फसलों की बुआई और उत्पादन को लेकर किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए जिला कृषि पदाधिकारी जयराम पाल को आवश्यक निर्देश दिया। 

किसान सम्मान के एक हजार आवेदन लंबित रखने वाले आठ कृषि पदाधिकारी से शोकॉज
किसान सम्मान योजना का जिलाधिकारी ने समीक्षा किया। इस दौरान उन्होंने पाया कि जिले में दो लाख 63 हजार 357 किसानों ने अनुदान के लिए आवेदन किया है। जिसमें एक लाख 90 हजार आवेदनों को ही सत्यापित किया गया है। जिले के करीब आठ प्रखंडों के कृषि पदाधिकारियों द्वारा आवेदन को लंबित रखा गया है। जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए अमनौर, छपरा सदर, एकमा, जलालपुर, मांझी, मढौरा, पानापुर एवं रिविलगंज के कृषि पदाधिकारी से शोकॉज किया है। उन्होंने सभी कृषि पदाधिकारी पर एक सप्ताह के अंदर लंबित आवेदनों को निष्पादित करने का निर्देश दिया। 

पीएचईडी के इंजीनियर से शोकॉज, वेतन बंद करने का निर्देश
जिले में पानी के संकट से लोगों को निजात दिलाने को लेकर लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग यानी पीएचईडी के माध्यम से किए जा रहे कार्यों का जिलाधिकारी ने गहन समीक्षा किया। इस दौरान सहायक अभियंता ने बताया कि 367 चापाकलों की मरम्मति कराई गई है। जबकि 146 चापाकलों का कनवर्जन कराया गया है। उन्होंने बताया कि आपदा प्रबंधन मद से गत वर्ष 100 नए चापाकल निर्माण के अतिरिक्त 25 चापाकल गाड़े गए हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता एवं उनकी टीम के कार्यों पर असंतोष जताते हुए लक्ष्य के विरुद्ध कार्य नहीं करने पर शोकॉज किया है। साथ ही कार्यपालक अभियंता एवं सभी सहायक अभियंताओं का अगले आदेश तक वेतन बंद करने का निर्देश दिया है। उन्होंने एक सप्ताह के अंदर 50 नए चापाकल को गाड़ने का निर्देश दिया है। 

120 चालू राजकीय नलकूपों के सत्यापन का निर्देश

जिलाधिकारी ने लघु सिंचाई प्रमंडल के कार्यों के समीक्षा के दौरान पाया कि 120 राजकीय नलकूपों के चालू होने का प्रतिवेदन दिया गया है। जिसे सत्यापित करने को लेकर जिलाधिकारी ने जिला कृषि पदाधिकारी को निर्देश दिया है। वहीं मरम्मत के लिए स्वीकृत 106 नलकूपों का पर्यवेक्षण कर दस दिनों के अंदर ठीक करने का निर्देश लघु सिंचाई प्रमंडल के इंजीनियरों को दिया है। वहीं नलकूपों में विद्युत कनेक्शन देने को लेकर विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया है।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!