धुरेन्द्र हत्याकांड का पुलिस ने 48 घंटे में किया खुलासा, रिटायर्ड सेना के जवान का पुत्र गिरफ्तार

इस समाचार को शेयर करें
  •  मृतक की मोबाइल व हत्या के लिए प्रयोग किये गये हथियार बरामद
  •  सर्विलांस के आधार पर हत्याकांड का हुआ उद्दभेदन
  • हत्यारे ने किया स्वीकार: प्रेमिका के आपत्तिजनक फोटो को सोशल मीडिया पर वायरल करने की मृतक ने दी थी धमकी
  • हत्यारे व मृतक थे आपस में दोस्त , प्रेमिका की इज्जत की खातिर ले ली दोस्त की जान

छपरा । जिले के मांझी थाना क्षेत्र के मेहंदीगंज में हुई रहस्यमय ढंग से धुरेंद्र हत्या कांड का खुलासा 48 घंटे के अंदर करने में एसआइटी तथा पुलिस ने महत्वपूर्ण कामयाबी हासिल की है और इस मामले में हत्या के आरोपित सेना के रिटायर्ड जवान के पुत्र वीर बहादुर कुमार को गिरफ्तार कर ली है। इस आशय की जानकारी पुलिस अधीक्षक हर किशोर राय ने अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में गुरुवार को दी। उन्होंने बताया कि 18 फरवरी को मेहंदीगंज गांव के बधार से एक युवक की शव को बरामद किया गया था, जिसकी गला रेत कर हत्या कर दी गई थी । इस मामले में बुटन चौधरी के पुत्र धुरेंद्र चौधरी की मां के द्वारा अज्ञात अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। उन्होंने बताया कि हत्या की घटना के बाद पुलिस के द्वारा डॉग स्क्वायड से इसकी जांच कराई गयी। फॉरेंसिक लैब की टीम को भी जांच के लिए लगाया गया। साथ ही टेक्निकल सेल से सहयोग लिया गया। जांच के क्रम में पता चला कि घटना की रात को 8:00 बजे से धुरेंद्र घर से लापता था और उसके पास मोबाइल भी था, लेकिन उसका मोबाइल स्विच ऑफ बता रहा था। उसके मोबाइल का कॉल डिटेल्स निकाला गया और कुछ नंबरों को सर्विलांस पर रखा गया । साथ ही जांच के क्रम में आधा दर्जन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की गयी। सर्विलांस तथा कॉल डिटेल्स के आधार पर हत्या करने वाले वीर बहादुर कुमार को गिरफ्तार करने में एसआईटी तथा पुलिस को सफलता मिली । गिरफ्तार हत्यारे से पूछताछ की गई । पूछताछ के क्रम में यह बात सामने कि हत्या करने वाला वीर बहादुर तथा सुरेन्द्र चौधरी दोनों आपस में दोस्त थे । वीर बहादुर का उसी गांव की एक लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। उसकी प्रेमिका का आपत्तिजनक फोटो धुरेंद्र चौधरी ने अपने मोबाईल में ले लिया था और बराबर उसे दिखाता था तथा सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देता था, जो वीर बहादुर को नागवार गुजरता था । इन्हीं कारणों से वीर बहादुर ने धुरेंद्र से दोस्ती को और गहरा कर लिया तथा उसकी हत्या करने की योजना बनायी। इसके लिए सबसे पहले एक धारदार फसुली का प्रबंध किया तथा योजनाबद्ध तरीके से उसे गांव से बाहर बुला कर ले गया और षड्यंत्र के तहत धारदार हथियार से उसके गर्दन पर हमला कर दिया, जिसके बाद धुरेंद्र कुछ दूर तक छटपटाते हुए जाकर गिर गया, जिसके बाद वीर बहादुर ने उसके गर्दन पर फिर हमला किया और जब वह आश्वस्त हो गया कि धुरेंद्र की मौत हो चुकी है तो, उसका मोबाइल लेकर स्वीच ऑफ करने के बाद घटनास्थल से दूर जंगल में फेंक दिया। साथ ही जिस फसुली से उसकी हत्या की थी, उसे भी ले जाकर जंगल में छिपा दिया पुलिस अधीक्षक ने बताया कि हत्या के इस मामले का खुलासा करने में एसआइटी तथा मांझी थाना की पुलिस ने काफी सराहनीय कार्य की है और हत्यारों को हत्यारे को पकड़ने के साथ-साथ हत्या में प्रयुक्त हथियार हत्या करने के लिए जिस मोबाइल से कॉल किया गया था, वह मोबाइल और मृतक के मोबाइल को बरामद कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार वीर बहादुर के पिता सेना के रिटायर जवान है । पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उसकी प्रेमिका की भी पहचान कर ली गई है तथा इस मामले में अनुसंधान का कार्य चल रहा है।

चलेगा  स्पीडी ट्रायल

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में हत्या के आरोपित के खिलाफ स्पीडी ट्रायल चलाया जायेगा। हत्यारे के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिला है और इसके लिए अनुसंधानकर्ता को आवश्यक निर्देश दे दिया गया है। पीड़ित को त्वरित न्याय दिलाने तथा दोषी को सजा दिलाने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है । उन्होंने कहा कि हत्या के लिए प्रयोग किए गए फसुली को भी जांच के लिए फॉरेंसिक लैब में भेजा जायेगा। साथ ही इस मामले में टेक्निकल सेल प्राप्त साक्ष्य को अनुसंधान में साक्ष्य के रूप में जोड़ा जायेगा। उन्होंने बताया कि शीघ्र जांच पूरा कर चार्जशीट दाखिल करने का निर्देश दिया गया है और स्पीडी ट्रायल चलाने के लिए प्रस्ताव समर्पित करने को कहा गया है।

पुलिस टीम को किया जायेगा पुरस्कृत

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उत्कृष्ट कार्य करने के लिए पुलिस टीम को पुरस्कृत भी किया जायेगा। उन्होंने बताया कि घटनास्थल से फॉरेंसिक लैब के द्वारा खून के नमूने समेत अन्य आवश्यक साक्ष्य जमा किए गए हैं। हत्या करने वाले वीर बहादुर के फिंगर प्रिंट तथा राइटिंग की भी मैचिंग कराई जाएगी। उसके फिंगर प्रिंट और बरामद हथियार को जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भेजा जाएगा।

षड्यंत्र के तहत की गई थी हत्या

अनुसंधान के दौरान यह बात सामने आई है कि धुरेंद्र चौधरी की हत्या षड्यंत्र के तहत की गई थी। महज प्रेमिका का आपत्तिजनक फोटो दोस्त द्वारा ले लिए जाने और सोशल मीडिया पर वायरल करने के धमकी दिए जाने के कारण वीर बहादुर ने न केवल अपने दोस्त की जान लेकर उसके परिवार को तबाह कर दिया, बल्कि खुद अपने जीवन को भी तबाह कर लिया । आज वह सलाखों के पीछे पहुंच गया और प्रेमिका अपनी जगह पर ही है । इस घटना के बाद प्रेम प्रसंग की इस कहानी को लेकर तरह-तरह के बातें कही जा रही है। प्रेम में इंसान किस कदर अंधा हो जाता है और अनैतिक कदम उठाता है, उसी का जीता जागता उदाहरण यह घटना बन गई है।

Ganpat Aryan

Ganpat Aryan

Multimedia Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!