NOU में भोजपुरी की पढ़ाई बंद, छात्रों ने कहा- भोजपुरी के लिए होगा आंदोलन

Spread the love

छपरा। राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों में भोजपुरी भाषा की पढ़ाई बंद करने का विरोध शुरू हो गया है। समृद्धशाली भाषा भोजपुरी की पढ़ाई जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा,  वीर कुवँर सिंह विश्वविद्यालय आरा, नालंदा खुला विश्वविद्यालय में डिग्री की पढाई होती थी जिसे  बंद कर दिया गया है।इस वजह से भोजपुरी भाषियों मे‌ं भारी रोष व्याप्त है।

इन जगहों पर बोली जाती है भोजपुरी

भोजपुरी भाषा बिहार के प्रमुख भाषाओं में से एक सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। यह भाषा बिहार, यूपी, झारखंड, छत्तीसगढ़  आदि राज्यों समेत देश के सभी राज्यों में बोली जाती है । इसके बोलने वाले लोग देश के अलावा दुनियां में भरे हुए हैं। यह भाषा भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के चौदह देशों में बोली जाती है। इस भाषा का साहित्य व संस्कृति बहुत ही समृद्ध है।नालंदा खुला विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर में यूजीसी द्वारा स्वीकृत होने के बाद डिग्री कोर्स कराया जा रहा था। परन्तु इसबार 2018 – 2020 के सत्र में से इसे हटा दिया गया है ।

इन विश्वविद्यालयों में पहले हीं बंद हो चुकी है भोजपुरी की पढ़ाई

इससे पहले वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय आरा व जय प्रकाश विश्वविद्यालय छपरा से भी हटा दिया गया, जिस कारण भोजपुरी भाषियों ने उग्र प्रदर्शन किया था। एनोयू में हो रहे डिग्री की पढाई को बंद किए जाने से लोगों में रोष है। भोजपुरी जन जागरण अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व नालंदा खुला विश्वविद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र संतोष पटेल ने कहा कि विश्वविद्यालय का यह निर्णय बहुत गलत है। इस विश्वविद्यालय से कितने छात्र भोजपुरी से पढाई कर रहे थे और अपने भविष्य का सपना देख रहे थे।

यूजीसी से रिकोगनाइज्ड है भोजपुरी भाषा

यूजीसी द्वारा रिकोग्नाईज्ड इस भाषा को हटाया जाना इस भाषा के संवैधानिक दर्जा के लिए उठ रहे मांग को दरकिनार करने की एक साजिश लग रही है। इसके पहले बिहार के दो विश्वविद्यालयों से हटाया जा चुका है। छात्रों ने राज्यपाल‌, कुलपति, मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री बिहार सरकार से आग्रह किया हैं‌ कि करोड़ों लोगों‌ की यह भाषा भोजपुरी को पुनः सभी विश्वविद्यालयों में पढाया जाय। भोजपुरी जन जागरण अभियान के महामंत्री व नालंदा खुला विश्वविद्यालय के 2011-13 के छात्र रहे फिल्म अभिनेता अभिषेक भोजपुरिया ने कहा कि इस विश्वविद्यालय में अच्छे खासे बच्चे भोजपुरी भाषा में डिग्री कोर्स कर रहे थे। परन्तु अचानक इस पाठ्यक्रम से हटा दिया जाना एक सोची समझी साजिश लग रही है। अभिषेक ने कहा कि कुलपति से आग्रह है कि भोजपुरी की पढाई पुनः शुरु की जाय। अगर ऐसा नहीं होता है तो, हम सभी पूर्ववर्ती छात्र छात्राओं को संगठित कर भोजपुरी भाषी विश्वविद्यालय के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे।

भोजपुरी की पढ़ाई बंद करना एक साजिश

डिफेंडर पत्रिका के संपादक धनन्जय कुमार सिंह ने कहा कि एक- एक कर जिस तरह से भोजपुरी भाषा को बिहार के विश्वविद्यालयों से गायब किया जा रहा है। यह एक साजिश नजर आ रहा है। जब से संवैधानिक दर्जा की मांग जोड़ पकड़ी है, तब से लगातार भोजपुरी भाषियों के साथ ऐसा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भोजपुरी भाषी सांसदों से मांग करते हैं कि‌ इस ओर ध्यान दें और पढाई पुनः शुरु कराने की पहल करें, अन्यथा 2019 चुनाव में भोजपुरी भाषी सबक जरुर सिखाएंगे। 

 पढ़ाई शुरू नहीं होने पर होगा आंदोलन           

भोजपुरी जन जागरण अभियान के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष देवेन्द्र कुमार ने भी क्षोभ व्यक्त करते हुए पुनः पढाई शुरु कराने की मांग की। अभियान के झारखंड प्रभारी राजेश भोजपुरिया ने कहा कि अगर जल्दी से पुनः इस भाषा की पढाई शुरु नहीं की‌ जाती है तो, हम सब प्रदर्शन करेंगे। भोजपुरी जन जागरण अभियान बिहार प्रभारी व जद यू नेता कुमुद पटेल ने कहा कि हम मुख्यमंत्री से आग्रह करते हैं कि करोड़ो लोगों की भाषा भोजपुरी को एक- एक कर सभी विश्वविद्यालयों से बंद किया जा रहा है, जो गलत है। इस पर संज्ञान लेकर पढाई शुरु करायी जाय। नहीं तो, भोजपुरी भाषी सड़क पर उतर कर प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे। भोजपुरी भाषा की नालंदा खुला विश्वविद्यालय में पढाई बंद होने की खबर सुन वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ गोरख प्रसाद मस्ताना, इग्नू के प्रो शत्रुघ्न कुमार, भोजपुरी भारती ढोढ़स्थान छपरा के अध्यक्ष मुंगालाल शास्त्री, कवि वीरेन्द्र कुमार मिश्र अभय, राजबल्लभ प्रसाद सेवक, गंगा प्रसाद अरुण, मनोकामना सिंह अजय, मनोज कुमार सिंह, वीणा वादिनी, रंगकर्मी महेन्द्र प्रसाद सिंह, फिल्म निर्देशक संजय ऋतुराज, डाॅ मनोज कुमार, प्रमेन्द्र सिंह, राकेश कुमार सिंह, अनुज तिवारी, दीपू कुमार मोहित, रामजीत राम, रामपुकार सिंह आदि ने अपनी‌ नाराजगी जाहिर की है और राज्यपाल व कुलपति से आग्रह किया की अति शीघ्र भोजपुरी की पढाई शुरु की‌ जाय।

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!