आशा कार्यकर्ताओं ने छठे दिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में काम-काज कराया ठप

Spread the love

छपरा। आशा संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर जिले के सभी आशा कार्यकर्ताओं ने गुरूवार को छठे दिन भी हङताल जारी रखा । छठे दिन आशा कार्यकर्ताओं ने आंदोलन को उग्र रूप दे दिया । जिले के विभिन्न प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में काम काज बाधित कर दिया । मुख्य गेट पर ताला लगा दिया जिससे न केवल मरीजों को परेशानी उठानी पड़ी, बल्कि उन्हें बैरंग वापस लौटना पड़ा । इस दौरान राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत बंध्याकरण का कार्य ठप भी बाधित हो गया । बंध्याकरण ऑपरेशन कराने के लिए आयी महिलाओं को भी वापस लौटना पड़ा । छपरा सदर अस्पताल में विन्नी उपाध्याय तथा कांति सिंह के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया । इस दौरान जिला मंत्री कांति सिंह ने कहा कि सरकार आशा कार्यकर्ताओं का शोषण कर रही है । आशा कार्यकर्ताओं को दिया जाने वाला मानदेय श्रम कानूनों के अनुरूप नहीं है । उन्होंने कहा कि श्रम कानूनों के अनुरूप आशा कार्यकर्ताओं को भी परिश्रमिक मिलना चाहिए । काम का कोई घंटा व समय निर्धारित नहीं हो । किसी भी समय प्रसव पीड़ीत महिला को देखने और अस्पताल पहुंचाने जाना पङता है । उन्होंने कहा कि सरकार आशा कार्यकर्ताओं का शोषण बंद करें और आशा कार्यकर्ताओं से किये गये वायदो को अविलंब पूरा करे । इस मौके पर इंदू देवी, बबली देवी, सुशीला कुमारी, रेखा कुमारी, निर्मला सिंह, ऊषा देवी, सीता कुमारी, मोतीराज देवी, सुमन कुमारी, पुष्पा सिंह, आदि ने संबोधित किया । धरना प्रदर्शन में काफी संख्या में आशा कार्यकर्ताओं ने भाग लिया । 

रिविलगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में गुरूवार को बंध्याकरण ऑपरेशन का शिविर आयोजित किया गया था, लेकिन शिविर में आयी महिलाओं का ऑपरेशन नहीं हो सका और उन्हें वापस लौटना पड़ा । रिविलगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में तालाबंदी व प्रदर्शन का नेतृत्व मीरा देवी, ऊषा देवी ने किया । इस दौरान प्रभा देवी, मालती देवी, उमरावती देवी, प्रमिला देवी, शुकवरिया देवी, मधु कुमारी, निर्मला देवी, चंद्रावती देवी, सुशीला देवी, तेतरा देवी, रिंकू देवी आदि ने भाग लिया । जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, रेफरल अस्पतालों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में काम काज बाधित हो गया ।

Ganpat Aryan

Web Media Journalist

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!