छपरा के तरैया में निरहुआा व अम्रपाली ने बाढ राहत सामग्री का वितरण किया

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/%e0%a4%9b%e0%a4%aa%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%a4%e0%a4%b0%e0%a5%88%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%b0%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%86%e0%a4%be/
Twitter
छपरा। जिले के तरैया के पोखरेरा पंचायत में बाढ़ पीड़ितों से मिलने भोजपुरी फिल्म  के सुपरस्टार अभिनेता दिनेशलाल यादव उर्फ निरहुआ और फिल्म अभिनेत्री आम्रपाली दुबे पहुँची और बाढ़ क्षेत्रो का निरीक्षण कर पीड़ितों के बीच राहत सामग्री बाटी।फिल्म अभिनेता और अभिनेत्री  दोनों जनता से अपील किया कि बाढ़ पीड़ितों का हाल बेहाल है इसलिए हमें इनके मदद में आगे आना चाहिए।दिनेश लाल यादव ने कहा कि हम बाढ़ पीड़ितों के मदद के लिए तरैया पहुँचे है।और सभी लोगो से मदद करने की अपील करते है।प्रखण्ड में 80 गाँव बाढ़ की चपेट में है।जिसमे 2.5 लाख आबादी बाढ़ की चपेट में है।कोई सड़क के किनारे,कोई बाँध पर तो कोई अन्य ऊँचे स्थानों पर शरण लिया है तो कोई अपने ही गाँवो में घिरे है।इनकी सहायता के लिए प्रखण्ड में कुल 41 राहत शिविर चलाये जा रहे है।जब इन राहत शिविरों के धरातल पर पहुँचा गया तो हकीकत कुछ और था और सरकारी रिपोर्ट कुछ और है।प्रत्येक शिविर से प्रतिदिन सुबह 400 और संध्या 400 लोगो के औसत भोजन करने का रिपोर्ट नियत्रण कक्ष को प्राप्त होता है।लेकिन धरातल पर कुछ और था।

तरैया के पोखरेरा में भोजपुरी फिल्म अभिनेता
तरैया के पोखरेरा में भोजपुरी फिल्म अभिनेता
जब 11:30 सुबह पोखरेरा पेट्रोल पम्प शिविर पर पहुँचा गया तो देखा गया कि चावल बन रहा था।शिविर में एक भी पीड़ित नही थे।शिविर के बगल में सड़क के किनारे प्लास्टिक गिराकर टेंट में रह रहे पीड़ितों से जब पड़ताल किया गया तो हकीकत कुछ और था।पीड़ित पिपरा निवासी रामचन्द्र राम, रुक्मिणी देवी,चंद्रावती देवी,प्रमीला देवी,गायत्री देवी,उपेन्द्र कुमार राम कमली देवी,लीलावती देवी,नीरा कुँवर,मानती देवी,लायची देवी,मीना देवी,धनिया देवी आदि ने बताया कि दिन में दो बजे एक बार केवल दाल-भात और सब्जी मिलता है।रात्री में भोजन नही मिलता है।वही चैनपुर निरीक्षण भवन पर 12:00 बजे तक पंजी के अनुसार मात्र 15 बाढ़ पीड़ित ही भोजन कर रहे थे।जब 12:30  दोपहर मध्य विद्यालय गलिमपुर पहुँचा गया तो वहाँ कोई भोजन नही कर रहा था।एक कमड़े में दो चार लड़के भोजन वितरण पंजी पर कुछ लोगो का नाम लिख रहे थे।और एक लड़का हस्ताक्षर कर रहा था।एक निजी व्यक्ति शिविर स्थल पर था जिसने बताया कि 80 पैकेट भोजन गलिमपुर गाँव मे भेजा जा रहा है।जबकि उक्त गाँव से आधा किलोमीटर की ही दूरी पर निरीक्षण भवन चैनपुर में शिविर चल रहा है।तथा गलिमपुर गाँव मे भी विधायक मुद्रिका प्रसाद राय का शिविर चल रहा है।उक्त विद्यालय में ठहरे पीड़ित चकिया के बबन राय, द्वारिका राय, शंकर राय, सिरमी की प्रमीला देवी,लौवा की फुलझड़ी देवी,सिरमी टोला की उषा देवी,लक्ष्मीना देवी आदि ने दबे जुबान कहा कि एक टाइम भोजन मिलता है।इन केंद्रों के पर्वेक्षक कृषि पदाधिकारी और प्रखण्ड सहकारिता पदाधिकारी भी केंद्र पर नही थे।जब सहकारिता पदाधिकारी के मोबाइल पर फोन किया गया तो उन्होंने अपना मोबाइल रिसिव नही किया,फिर स्विच ऑफ कर दिया।प्रखण्ड कृषि पदाधिकारी ने बताया कि मैं पहले उस केंद्र का पर्वेक्षक था अब नही हूँ।जबकि अंचल कार्यालय से प्राप्त सूची में इनका ही नाम है।ईधर पूर्व भाजपा प्रखण्ड अध्यक्ष ने कहा कि हमारे गाँव अकुचक बाँध पर शिविर खुला है।लेकिन भोजन नही बनता है।केवल कागज पर ही चलता है।चैनपुर के पूर्व मुखिया प्रत्यासी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि सरकारी शिविर के भोजन को कुछ क्षेत्रों में बाढ़ पीड़ितों के बीच भेजकर कहा जा रहा है कि मुखिया जी भोजन भेजे है।जबकि सरकारी राहत शिविर में पीड़ितों को दो वक्त का भोजन देना है।पर्वेक्षक नियुक्त है।सरकारी कर्मचारी नियुक्त है।लेकिन हकीकत यह है कि सरकारी कर्मी के नाम पर प्राइवेट लोग शिविर का संचालन मनमानी ढंग से कर रहे है जिससे आम लोगो को खास लाभ नही हो रहा है।जब सरकारी राशि का दुरुपयोग जरूर हो रहा है।  इस सम्बंध में एसडीओ  संजय कुमार राय से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जाँच कर करवाई  की जाएगी।सीओ वीरेंद्र मोहन ने कहा कि जाँच कर दोषी पर करवाई होगी।

Facebook
Google+
http://sanjeevanisamachar.com/%e0%a4%9b%e0%a4%aa%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%a4%e0%a4%b0%e0%a5%88%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%b0%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%86%e0%a4%be/
Twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

error: Content is protected !!